Lifestyle News In Hindi : Malaysia women ministry advice amid lockdown, women do make-up at home but do not disturb husbands; Protests begin | लॉकडाउन के बीच मलेशिया महिला मंत्रालय की सलाह, महिलाएं घर पर मेकअप करें लेकिन पतियों को परेशान न करें; विरोध शुरू


  • लॉकडाउन के दौरान घर पर कैसे रहें महिलाएं इस पर मलेशिया का महिला मंत्रालय फेसबुक पर टिप्स जारी कर रहा है
  • लिंगभेद टिप्पणी के बाद मंत्रालय ने हटाईं फेसपोस्ट, एक यूजर ने लिखा- मेकअप से कोरोना कैसे दूर होगा हमें बताएं

दैनिक भास्कर

Mar 31, 2020, 07:44 PM IST

वीमेन डेस्क. मलेशियाई सरकार कोरोनावायरस से बचाव के लिए लॉकडाउन के निर्देश जारी कर रही है। लेकिन मलेशिया के महिला मंत्रालय का नया कैंपेन #WomenPreventCOVID19 विवादों में आ गया है। महिला मंत्रालय ने सलाह दी है कि लॉकडाउन के दौरान महिलाएं घर पर मेकअप करें लेकिन पतियों को परेशान न करें। देशभर में महिलाएं इस लिंगभेद टिप्पणी की आलोचना कर रही हैं।

लॉकडाउन में डोरेमोन की आवाज निकालें महिलाएं
मलेशिया का महिला मंत्रालय फेसबुक और इंस्टाग्राम पर महिलाओं को टिप्स दे रहा है कि वे लॉकडाउन के दौरान कैसे रहें। इसी कड़ी में मंत्रालय ने एक तस्वीर पोस्ट करते हुए लिखा, लॉकडाउन के दौरान महिलाएं पतियों को परेशान न करें। मंत्रालय का लक्ष्य लॉकडाउन के दौरान घरेलू कलह के मामलों पर रोक लगाना था। इसके बाद एक और पोस्ट में लिखा, लॉकडाउन में महिलाओं को फेमस कार्टून कैरेक्टर डोरेमोन की आवाज निकालनी चाहिए। इस दौरान साफ कपड़ों में रहें। किचन और कमरों को साफ रखें।

सोशल मीडिया से हटाईं पोस्ट
विवाद बढ़ने पर मंत्रालय ने सोशल मीडिया से कुछ पोस्ट हटाईं। सोशल मीडिया पर एक यूजर ने लिखा, अच्छे से तैयार और मेकअप करके कैसे कोरोनावायरस से बचाव कर सकते हैं, जरा हमें बताएं। एक दूसरे यूजर ने लिखा, ये 2020 है, आगे बढ़ें और महिलाओं से जुड़े जरूरी मुद्दों पर ध्यान दें।

जेंडर असमानता को बढ़ावा दे रही पोस्ट
फेसबुक और इंस्टाग्राम पर महिलाओं का कहना है कि इस तरह की पोस्ट जेंडर असमानता को बढ़ावा दे रही हैं। एक यूजर लिखती हैं कि घरेलू हिंसा से कैसे निपटें मंत्रालय को इस पर अपनी सलाह जारी करनी चाहिए।

लॉकडाउन में शोषण के मामले बढ़े
मलेशिया में महिलाओं से जुड़े घरेलू हिंसा और शोषण मामले बढ़े हैं। मलेशिया में घरेलू हिंसा से जूझने वाली महिलाओं के बनाई गई हेल्पलाइन के आंकड़ों के मुताबिक, लॉकडाउन की शुरुआत (18 मार्च) से अब तक ऐसे 50 मामलों में बढोतरी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here